आखिर क्यों ब्लास्ट होती है स्मार्टफोन की बैटरी, क्या हैं इसे रोकने के उपाय?

0
27

[ad_1]

नई दिल्ली. हाल ही में एक खबर आई थी कि वनप्लस नोर्ड 2 की बैटरी ब्लास्ट हो गई और यूजर को काफी चोट आई. स्मार्टफोन की बैटरी ब्लास्ट (Blast in Battery) होना कोई नया नहीं है. पहले भी हमारे सामने इस तरह के कई केस आए हैं. स्मार्टफोन बनाने वाली कंपनी हमेशा यही कहती है कि कस्टमर की तरफ से ही कोई प्रॉब्लम रही होगी, प्रोडक्ट तो पूरी तरह से सुरक्षित है. इस मामले में विशेषज्ञ भी कहते हैं कि ज्यादातर मामलों में स्मार्टफोन ब्लास्ट (Smartphone Blast) यूजर की लापरवाही से होता है. तो आज हम आपको बताने वाले हैं वह कौन सी लापरवाहियां हैं, जिनकी वजह से एक स्मार्टफोन ब्लास्ट हो जाता है.

डिवाइस या बैटरी का फिजिकली डैमेज होना
कई बार जब हमारे हाथ से फोन टूट कर नीचे गिर जाता है तो फोन और उसके अंदर की बैटरी डैमेज हो जाती है. यदि बैटरी डैमेज हो गई है तो उसमें किसी भी समय शॉर्ट सर्किट और ओवरहीटिंग जैसी समस्याएं हो सकती हैं. बैटरी में यदि शॉर्ट सर्किट या ओवरहीटिंग होती है तो सबसे पहला लक्षण यह दिखाई देता है कि बैटरी फूलने लगती है. स्मार्टफोन को देखकर भी आप अंदाजा लगा सकते हैं कि बैटरी फूली है या नहीं. यदि आपके स्मार्टफोन की बैटरी फूल रही है तो आपको तुरंत इसे सर्विस सेंटर पर चेक कराना चाहिए.

ये भी पढ़ें – बदलाव पर बदलाव कर रहा WhatsApp, इस बार क्या बदलने वाला है? जानिए

ओरिजिनल चार्जर इस्तेमाल ना करना
बहुत से लोग स्मार्टफोन का चार्जर खो जाने के बाद या खराब हो जाने के बाद नकली चार्जर इस्तेमाल करने लगते हैं. लेकिन लोग नहीं जानते कि सस्ते और अन-सर्टिफाइड चार्जर का इस्तेमाल करना खतरे से खाली नहीं है. हर कंपनी अपने स्मार्टफोन के साथ स्पेशल चार्जर इसीलिए देती है ताकि फोन ज्यादा चले और बैटरी भी ठीक रहे. किसी दूसरे चार्जर से बैटरी को चार्ज करने से फोन के आंतरिक कल-पुर्ज हीट होने लगते हैं. इसलिए, हमेशा ध्यान रखें कि बैटरी चार्ज करने के लिए फोन के असली चार्जर का इस्तेमाल करें.

गलत तरीके से फोन को चार्ज करना
रात को फोन चार्जिंग पर लगाकर सो जाना आम बात है, लेकिन ऐसा करना खतरनाक होता है. फुल चार्ज होने के बाद भी यदि चार्जर लगा रहता है तो बैटरी और फोन दोनों ओवरहीट होने लगते हैं, जोकि शॉर्ट सर्किट या ब्लास्ट का कारण बन सकता है. इसी कारण से आजकल कई कंपनियों ने ये फीचर देना शुरू कर दिया है कि बैटरी के पूरा चार्ज हो जाने के बाद करंट अपने आप कट जाता है. हालांकि ये फीचर महंगे स्मार्टफोन्स में ही देखने को मिलता है, बजट स्मार्टफोन में नहीं. फिर भी आपको ध्यान रखना चाहिए कि रात को चार्जिंग पर लगाकर न सोएं. इसके अवाला यदि फोन किसी पॉकेट या बैग में है, तब भी उसे चार्ज नहीं करना चाहिए. बेहतर होगा यदि आप अपने फोन के कवर को हटाकर उसे चार्ज करें. फोन को कभी भी धूप में खड़ी कार में नहीं छोड़ना चाहिए.

ये भी पढ़ें – YouTube ने किया बड़ा बदलाव, सब नहीं देख पाएंगे वीडियो पर आए कितने डिसलाइक!

बैटरी का पानी में गिरना या सूर्य की रोशनी में गर्म होना
यदि फोन की बैटरी पानी में गिर जाए या फिर उसे डायरेक्ट धूप में रख दिया जाए तो बैटरी के ब्लास्ट होने के चांस बढ़ जाते हैं. ज्यादा गर्म होने से बैटरी के सेल स्टेबल नहीं रहते और ऑक्सीजन और कार्बन डाइऑक्साइड गैस पैदा करने लगते हैं. इसकी वजह से बैटरी फूल जाती है और बाद में फट भी सकती है. इसलिए फोन को सीधी धूप में न रखें. इसी तरह पानी सके संपर्क में आने से भी बैटरी के सेल ठीक से काम नहीं करते और बैटरी फूलने लगती है.

प्रोसेसर को ओवरलोड कर देना
कई लोग स्मार्टफोन के प्रोसेसर को ओवरलोड कर देते हैं. मतलब ये कि फोन का इस्तेमाल उसकी क्षमता से अधिक किया जाने लगता है. कुछ गेम्स ऐसी होती हैं, जो हर स्मार्टफोन पर नहीं चल सकतीं. हल्के प्रोसेसर पर बड़े काम करने से प्रोसेसर हीट करने लगता है. इससे बैटरी पर भी असर पड़ता है. इस केस में भी फोन गर्म होकर फट सकता है. इसका उपाय ये है कि यदि आपका फोन हैंग करने लगे या हीट होने लगे तो उसे कुछ देर के लिए बंद कर दें और फिर से ऑन कर लें. बड़ी ऐप्स को हटा सकते हैं.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

[ad_2]

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here